गोवर्धन पूजा क्या है 2020 जाने शुभ मुहूर्त जानकारियां। Govardhan puja 2020 festival information

गोवर्धन पूजा दिवाली के 2 या 3 दिन बाद आता है और यह भी कार्तिक माह में बनाए जाने वाले बड़ा त्योहार माना जाता है गोवर्धन पूजा की शुरुआत ब्रज से शुरू हुई और यह पूरे भारतवर्ष में शुरू होने लगी अभी है भारत के कोने कोने में बनाई जाती है गोवर्धन पूजा बनाने के पीछे श्री कृष्ण जी का बहुत बड़ा हाथ है जब वह धरती पर जन्म लेकर आए थे और जब वह ब्रज में रहते थे तब इस लीला को किया था और इस बार गोवर्धन पूजा 15 अक्टूबर 2020 को बनाई जा रही है।

 

इस दिन श्री कृष्ण जी ने अपने सबसे छोटी उंगली पर एक पर्वत को उठा लिया था और जिससे गांव वालों को नई जिंदगी मिली थी उस दिन गांव में बाढ़ आ गई और श्री कृष्ण जी ने पर्वत को अपनी उंगली पर उठा लिया और सब उसके नीचे आकर खड़े हो गए और उन्होंने उस दिन सब की जान बचाई और तभी से ही है मान्यता है कि इस दिन को वॉइस पर्वत को पूछा जाएगा और उसका नाम गोवर्धन पर्वत रखा गया।

 

गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त Govardhan puja 2020 गोवर्धन पूजा टाइम Govardhan puja time

 

गोवर्धन पूजा मुहूर्त 3:17 पीएम से 5:23 पीएम तक

 

कितने समय तक रहेगा 2 घंटा 6 मिनट रहेगी

 

प्रतिपदा तिथि प्रारंभ 10:36 15 नवंबर

प्रतिपदा तिथि समाप्त 7:05 16 नवंबर

 

गोवर्धन 2019 में कब था Govardhan puja 2019

 

यह 28 अक्टूबर 2019 में था

प्रतिपदा तिथि प्रारंभ 9:08 से

प्रतिपदा तिथि समाप्त 6:13 तक

गोवर्धन पूजा काल मुहूर्त दोपहर 3:23 से शाम 5:36 तक

अवधि 2 घंटा 12 मिनट

 

गोवर्धन में अन्नकूट बनाया जाता है।

 

गोवर्धन में अंकुर बढ़ेगी प्यार भाव से बनाया जाता है इस दिन तरह-तरह की फल सब्जियों एवं काजू बादाम के साथ उसको बनाया जाता है कई तरीके की सब्जी वह कई तरीके के फोटो को एक साथ मिलाकर उसको बनाया जाता है वह मंदिरों में भी उसका दान किया जाता है और इसका प्रसाद भी लोगों को दिया जाता है।

 

गोवर्धन पूजा के लिए सामग्री एव मुहूर्त

 

  1. गोवर्धन वाले दिन सुबह जल्दी उठकर प्रातः काली स्नान करें तथा अपने शरीर पर सरसों का तेल लगाएं कर अच्छे वस्त्र धारण करें।
  2. अपने घर के मुख्य द्वार पर गोवर्धन जी की प्रतिमा बनाएं आप इसे गाय के गोबर से बनाए और फिर इसकी पूजा करें।
  3. इस पर्वत पर पेड़ पौधे तथा अपामार्ग की टहनियां जरूर लगानी चाहिए
  4. इस पर्वत पर रोली कुमकुम वे चावल भी चढ़ाने चाहिए
  5. पूजा के बाद उस पर्वत की सात परी के बनाए जरूर करें
  6. इंद्रदेव वरुण देव अग्निदेव तथा विष्णु जी की भी पूजा आराधना गोवर्धन वाले दिन जरूर करें

 

Govardhan puja kab hai

यह 15 नवंबर को 2020 में है एक दिन आप इसको घर के मुख्य द्वार पर इसकी प्रतिमा बनाकर इसकी परिक्रमा भी करें और इसकी पूजा भी करें और अंकूट का दान भी करें।

 

हैप्पी गोवर्धन पूजा happy Govardhan puja

 

Govardhan time ,Govardhan puja muhurat, गोवर्धन पूजा विधि Govardhan puja vidhi, Govardhan Puja images